माँ भारती

Maabharati: A Hindi knowledge Sharing website, Legends of Mahatmas, Technologies, Health, Today History, Successful People's stories and other information.

Breaking

18 January 2019

गीता फोगाट के संघर्षशील जीवन की कहानी

भारतीय महिला फ्रीस्टाइल पहलवान गीता फोगाट का जन्म 15 दिसम्बर 1988 को हरियाणा राज्य के चरखी दादरी जिले के एक गाँव बालाली में हुआ था. इनके पिता का महावीर सिंह फोगाट राष्ट्रिय चैंपियन है. माता दया कौर जो ग्रहणी है. गीता के तीन बहने बबिता कुमारी, संगीता फोगाट, रीतू फोगाट है.

  • राष्ट्रमंडल खेल 2010 नई दिल्ली में फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया की एमिली बेनस्टेड को हराकर महिलाओं की कुश्ती में भारत को पहला Gold Medal दिलाया था.
  • बबिता कुमारी और चचेरी बहिन विनेश फोगाट ने भी कॉमन वेल्थ गेम्स में Gold Medal जीते है.

  • 23 दिसम्बर 2016 को आई प्रसिद्ध बॉलीवुड फिल्म दंगल गीता फोगाट और बबिता फोगाट के जीवन पर आधारित थी. इस फिल्म में गीता का किरदार फ़ातिमा सना शेख ने ,जबकि इनके पिता का किरदार आमिर खान ने निभाया है.
गीता फोगाट के जीवन की कहानी 

आज हम गीता जी के जीवन की कहानी वहां से शुरू कर रहे है जब इनका जन्म भी नहीं हुआ था.
गीता फोगाट के पिता महावीर सिंह फोगाट पहलवानी में राष्ट्रिय गोल्ड मेडलिस्ट थे इनका सपना देश के लिए गोल्ड लाने का होता है परन्तु गरीबी के कारण इनका यह सपना पूरा नहीं हो पाटा है क्योंकि घर चलाना भी जरुरी था. फिर इन्होने सोचा कि मै नहीं तो मेरा बेटा ही देश के गोल्ड लायेगा. परन्तु इनका सपना जब चकनाचूर हो गया जब इनके घर बेटी ने जन्म लिया. यह सिलसिला यही नहीं रूका और इनके घर चार बेटियों ने जन्म लिया और बेटे की खावाहिस के साथ साथ गोल्ड लाने के सपने पर भी पानी फिर गया. ये अपने सपने को पूरी भुला चुके थे.
तभी  सन 2000  कर्णम मल्लेश्वरी ने ओलंपिक में देश के लिए पदक जीता. इसको देखकर तो महावीर सिंह के सपने को नए पंख मिले और उन्होंने सोचा ये कर सकती है तो म्हारी बेटी क्यों नहीं. बस तभी से ही गीता और बबिता को पहलवान बनाने की तैयारी शुरू कर दी गयी.
परन्तु घर वाले गाँव वाले सभी परिचित लोग इनके खिलाफ हो गये और बहुत खरी खोटी सुनने को मिली पर ये कहा रुकने वाले थे अपनी बेटियों को प्रशिक्षण देते रहे. हालाँकि इनकी बेटिया भी इसका विरोध करती थी परन्तु यह विरोध कुछ दिन ही चला. बेटिया अब बड़ी हो चुकी थी और महावीर सिंह के सपने को साकार करने में लग गयी
गीता को पहली बार तब पहचान मिली जब इन्होने 2009 में पंजाब में आयोजित हुए कॉमन वेल्थ गेम्स में अपना पहला Gold Medal जीता था.

इसके बाद 2010 में दिल्ली में आयोजित हुए राष्ट्रमंडल खेलो में 55 किलो ग्राम भार वर्ग में Gold मैडल जीता था जो कि इनके करियर की सबसे बड़ी पहली सफलता थी. इस मैच में इन्होने ऑस्ट्रेलिया की पूर्व राष्ट्रमंडल चैंपियन एमिली बेन्स्तेद को हराया था.
विश्व कुश्ती चैंपियनशिप 2012 में Bronze Medal जीता.
एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप 2012 में Bronze Medal जीता.
गीता फोगाट को 2012 में कुश्ती के अर्जुन पुरूस्कार से सम्मानित किया गया था.
कॉमन वेल्थ रेसलिंग चैंपियनशिप जोहांसबर्ग 2013 में गीता फोगाट ने Silver Medal जीता था.

गीता फोगाट ने 20 नवम्बर 2016 को पहलवान पवन कुमार से शादी की थी. आपको बतादे कि पवन कुमार गीता फोगाट से उम्र में पांच साल छोटे है.

आप इस विडियो में 2010 में किस तरह से उन्होंने मैडल जीता देख सकते है 


No comments:

Post a Comment

माँ भारती का नया लेख अपने ईमेल में पाए

जिस ईमेल में आप माँ भारती का नया लेख पाना चाहते है वह नीचे बॉक्स में इंटर करे:

Delivered by माँ भारती